If you’re on Twitter, go ahead and follow me and say hello.

Jan 18, 2012

"स्वप्न -सत्य"

देखा सुना
पढ़ा और जाना
अपने को फिर ,
अलग सा माना,
शब्दों के विश्लेषण में उलझे
वो प्रश्न पुराने कभी न सुलझे /
तुझे स्वयं से अलग ही पाया
सत्संगी बन जान न पाया /
नचिकेता ,सुकरात बनूँ में
तू तू है ,मै ही हूँ मै मै /
प्रवचनों से भी जान न पाया
गीता गीत समझ न पाया /
धीरे धीरे द्वार खुले फिर ,
शब्दों के जाले टूटे फिर /
और अचानक टूट गया भ्रम
उलझ विचारों का टुटा क्रम /
तू मैं का तो भ्रम ही पाला,
टूट गया वो पूर्वतन जाला/
जो तू है -वो ही तो मै हूँ
तू से अलग मै ही कब हूँ/
सो अहम, सो अहम भाव प्रकाशित ,
एक आदि शब्द से सब परिभाषित /
पूर्ण तुष्ट फिर स्वयं को पाया
स्वप्न -सत्य सा सब कुछ पाया //

Followers