If you’re on Twitter, go ahead and follow me and say hello.

Feb 18, 2012

स्वीकार कर ले

ओ पथिक तू सोच खोया
मौन है क्या जाग रोया ?
पीर है ये तीर सी है
आँख गीली नीर सी है /
देख वो भी कहाँ सोती !
रख संजो ले नयन मोती /
जा कहीं मनुहार कर ले
ओ पथिक स्वीकार कर ले
तू अकेला न था सृष्टि का
बूँद भर था उसी वृष्टि का
जा कहीं सत्कार कर ले
प्रेम को स्वीकार कर ले /
ओ विरागी धूमकेतु !
गतिमान तीव्र कहाँ किस हेतु ?
आ यहाँ विश्राम कर ले .
प्रेम को स्वीकार कर ले ,
नृत्य कर ले ,गीत गा ले
छोड़ गति तू धुरी पा ले /
ओ पथिक स्वीकार कर ले ,
जा कहीं मनुहार कर ले /

3 comments:

राजीव थेपड़ा ( भूतनाथ ) said...

खूबसूरत लिखा है.....!!

neeraj said...

thnx

Mithilesh said...

भाव, मर्म, दर्द, लफ्ज, तड़प, अभिव्यक्ति, कामना, मंशा, गुहार, अपनत्व, स्नेह, सोच और हर मासूम ख्वाब में लिपटी इस मर्मस्पर्शी अभियक्ति के लिए साधुवाद..

Followers